दिखें ऐसे लक्षण तो न शरमाएं लड़के-लड़कियां, तुरंत करें ये

ऐसी कई छोटी मोटी समस्या होती है, जिनके बारे में हर कोई बात करने से झिझकता है। वहीं, अब आंखों के कैंसर का खतरा भी बढ़ता देखा जा रहा है। इतना ही नहीं ज्यादातर मरीजों को अपनी इस बीमारी के बारे में पता भी नही होता। साथ ही छोटी मोटी दिखने वाले लक्षणों को भी अनदेखा कर देते हैं।

 

वहीं, आंखों के कैंसर का सही समय पर इलाज नहीं मिलने से आंखों की रोशनी जा सकती है। ये काफी गंभीर बीमारी है, लेकिन लोगों को इस बारे में जागरूकता नहीं है। इस वजह से इलाज संभव नहीं हो पाता। हालांकि, इसका इलाज भी आपको कहीं जगह पर असानी से मिल जाता है।

 

– बता दें कि, ये कैंसर दस हजार में से एक बच्चे को होता है। 2 साल की उम्र में ही रेटिना कैंसर सामने आ जाता है।

लक्षण-

– आंख की पुतली का सफेद हो जाना (ल्यूकोकोरिया)।

– आंखों से तिरछा देखना (भेंगापन)।

– मोतियाबिंद के कारण आंखों में दर्द होना।

– आंखों की दोनों पुतलियों के रंग में अंतर होना।

– एक आंख से धुंधला दिखाई देना।

– आंख की पुतली के रंग का बदलना या इस पर काला धब्बा पड़ना।

– आंख का लाल होना या आंख में दर्द होना, या फिर दोनों।

– आंख में उभार आना।

– आंखों की रोशनी लगातार कमजोर होना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *