देश की पहली ‘ट्रक रिपेयर महिला’, हाथों में चूड़ियों के साथ हथौड़े भी खनकाती है 55 बरस की महिला

नई दिल्लीः ऐसा माना जाता है कि, महिलाएं शारीरिक रूप से बेहद कमजोर होती है और यही वजह भी है कि, वो शारीरिक तौर पर मर्दों का मुकाबला नहीं कर सकती है। लेकिन हम आपको जिस औरत की कहानी सुनाने वाले है वो आपको हैरान कर देगी। दिल्ली के बाहर जाते हुए एनएच 4 पर संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर पड़ता है। जो उत्तर भारत के सबसे बड़े ट्रांसपोर्ट हब की तरह है। –

-मिलिए शांति देवी से

– जानकारी के मुताबिक, यहां रोज तकरीबन 4000 ट्रक बनने के लिए आते हैं।
– जिसकी वजह से यहां पर करीब 80 हजार से भी ज्यादा लोगों को रोजगार मिला हुआ है।
– इन्हीं में से एक हैं शांति देवी। इन्हें देश की पहली ट्रक मैकेनिक कहा जाता है।
– शांति दवी की उम्र 55 साल के आस-पास की है।
– शांति ट्रक रिपेयर की अपनी दुकान में वो सारे काम करती हैं, जो कोई भी दूसरा ट्रक मैकेनिक करता है।
– ये मिनटों में भारी-भरकम ट्रक के टायर बदलकर उसे चमका देती है।
– शांति की टपरीनुमा रिपेयर शॉप के बाहर ट्रकों की लाइन लगी रहती है।
– हर ट्रक मालिक चाहता है कि, शांति या फिर उनका पति राम बहादुर ही उनकी ट्रकों की मरम्मत करें।

– शांति की माने तो वो पिछले 20 सालों से ट्रकों की मरम्मत कर रही हैं।
– शांति के 8 बच्चे हैं।
– शांति का कहना है कि, वो जिन ट्रकों को ठीक करती है वो भी उनके बच्चे जैसे ही है।
– मूल रूप से शांति देवी ग्वालियर से हैं।
– पिछले 30 सीलों से वो यहां पर अपने पति के साथ रह रही है।
– पहला पति शराब पीता था जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई।
– जिसके बाद शांति ने पेट पालने के लिए बीड़ी बनाने से काम शुरु किया।
– इसी दौरन उनकी मुलाकात उनके दूसरे पति राम बहादुर से हुई।
– जिसके बाद दोनों ने शादी कर ली।
– शांति देवी का कहना है कि, शादी से पहले उनके और उनके दूसरे पति के बच्चों को मिलाकर कुल 8 बच्चे है।
– बीड़ी बनाने से उनका घर नहीं चल रहा था।
– जिसके बाद दोनों ने हाइवे पर चाय की टपरी खोली।
– चाय पीने ट्रक ड्राइवर आते, जिनकी गाड़ियां हमेशा खराब होती रहतीं। जिसे देखते हुए उन्होंने एक मिस्त्री रख लिया।
– उससे ही दोनों ने टायर बदलना, पंक्चर बनाना, ट्रक रिपेयरिंग करना सीखा।
– काम के शुरू-शुरू में ट्रक ड्राइवर उनसे कह देते थे कि, कोई महिला उनकी ट्रक को हाथ नही लगाएगी, लोकिन वो उनकी बात खत्म होने से पहले ही उनका ट्रक ठीक कर उनका मुंह बंद करा देती।