पश्चिम बंगालः जारी है ममता सरकार का जादू, लेकिन फिर भी इस पार्टी से रहना होगा अलर्ट!

कोलकाताः एक तरफ जहां दक्षिण राज्यों में बीजेपी का डंका बज रहा है वहीं, पश्चिमी राज्यों में अभी भी तृणमूल का ही दबदबा देखा जा रहा है। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले ही बंगाल में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव हुए है जिसमें तृणमूल ने अपना डंका बजा दिया है। सोमवार को एक चरण में हुए पंचायत चुनाव के नतीजे गुरुवार को घोषित किए गए है, जिसमें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के नाम भारी जीत दर्ज हुई है। जबकि सीपीएम और कांग्रेस को पीछे छोड़ते हुए बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी बनती हुई नजर आ रही है। बता दें कि राज्य में कुल 31,802 ग्राम पंचायत सीटें हैं। जिनमें देर रात एक बजे तक घोषित नतीजों के मुताबिक तृणमूल कांग्रेस ने 20,848 सीटों पर कब्जा जमाया है।

 

– इनमें बीजेपी को 5,636 सीटें, माकपा को 1,461 सीटें और कांग्रेस 1,033 सीटों के साथ चौथे नंबर पर है।

– निर्दलीय प्रत्याशियों ने 1,794 ग्राम पंचायत सीटों पर जीत हासिल की है और 18 सीटों पर आगे चल रहे हैं।

– अच्छे प्रदर्शन से उत्साहित तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि इन नतीजों से अगले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी मजबूत होगी क्योंकि आम चुनाव से पहले पंचायत चुनाव राज्य में आखिरी चुनाव हैं।

– बता दें कि, बाकी की करीब 34 फीसद सीटों पर तृणमूल उम्मीदवार पहले ही निर्विरोध चुने जा चुके हैं। क्योंकि, यहां विपक्षी उम्मीदवारों का नामांकन नहीं हुआ था।

– वहीं, 2014 के बाद से राज्य में बीजेपी का ग्राफ लगातार तेजी से बढ़ा है।

– बीजेपी पहली बार राज्य की सभी जिलों में जीत दर्ज करने में कामयाब हुई है।