जानिए, कौन है सबरीमाला में प्रवेश पर अड़ी महिला, ‘बिग बॉस’ पर भी ले चुकीं है एक्शन

Sabrimala temple Trupti desai special

केरलः 800 साल पुराने केरल के प्रसिध्द सबरीमला मंदिर को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई सुर्खियों में बनी हुई है। ऐसे में कुछ लोग तृप्ति देसाई के नाम और काम से वाकिफ भी होंगे, लेकिन बहुत से लोगों के मन में ये भी सवाल चल रहा है कि, आखिर कौन है तृप्ति देसाई, जिसने इतने बड़े विरोध को अपने सिर पर उठा लिया।

Sabrimala temple Trupti desai special

खुले सबरीमाला के कपाट,नहीं मिला तृप्ति देसाई को प्रवेश..भारी विरोध के बाद पड़ा लौटना

जानिए, तृप्ति के बारे में

-केरल के बहुचर्चित सबरीमाला मंदिर में प्रवेश पर अड़ी तृप्ति देसाई भूमाता ब्रिगेड की संस्थापक और सामाजिक कार्यकर्ता है।

-तृप्ति देसाई सबरीमाला मंदिर में हर उम्र की महिलाओं की एंट्री के लिए लड़ाई लड़ रही हैं।

-उन्होंने शनिवार को मंदिर में प्रवेश कर भगवान अयप्पा के दर्शन का ऐलान किया है। इसके लिए उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री से सुरक्षा भी मांगी है।

कन्नड़ एक्टर की पत्नी ने की थी गलती, तभी से मंदिर में बैन हुआ महिलाओं का प्रवेश

प्रदर्शनकारियों ने दी धमकी

Sabarimala temple Trupti desai

प्रदर्शनकारियों ने धमकी दी है कि, चाहे जो हो जाए मंदिर की शांति को भंग नहीं होने दिया जाएगा। बसरों की तरह ही वो मंदिर में युवा महिलाओं को प्रवेश नहीं करने देंगे। विरोधियों का कहना है कि, तृप्ति देसाई को विरोधियों की लाश से होकर मंदिर में प्रवेश करना होगा। उन्हें केरल आने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी मिली हुई है। यहां तक की कई लोगों ने आत्महत्या करने की भी धमकी दे दी है।

ताईसाहेब व भुमाता ब्रिगेड टीम कोची विमानतळावर पोहचलो सकाळी 4.30 वाजता आम्हाला विरोध करायला विमानतळा बाहेरच शेकडो…

Posted by Vinod Telange on Thursday, November 15, 2018

कृपया महिलाएं ना आएं सबरीमला मंदिर, कोर्ट के फैसले से कई गुना बड़ा है सदियों पुराना रिवाज

पहले भी कई मंदिरों में महिलाओं को दिलाया है प्रवेश

सबरीमाल मंदिर से पहले तृप्ति देसाई ने ऐसे कई मंदिरों में महिलाओं को प्रवेश दिलाया है जिसमें उनका जाना वर्जित माना जाता था। ‘भूमाता ब्रिगेड’ की संस्थापक तृप्ति, सबरीमाला से पहले हाजी अली दरगाह, महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर, नासिक के त्रयंबकेश्वर, कपालेश्वर और कोल्हापुर के महालक्ष्मी मंदिर के दरवाजे महिलाओं के लिए खुलवा चुकी हैं।

पुणे से की है पढ़ाई

Sabrimala temple Trupti desai special

तृप्ति का जन्म कर्नाटक स्थित बेल्जियम जिले के निपानी तलुका में हुआ था। उन्होंने पुणे के विद्या विकास विद्यालय से पढ़ाई की है। 8 साल की उम्र में वो अपने परिवार के साथ कोल्हापुर से पुणे रहने के लिए आई थी। उसके बाद उन्होंने मुंबई की एसएनडीटी महिला यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन में एडमिशन लिया। लेकिन पारिवारिक कारणों से उन्हें पहले ही साल कॉलेज छोड़ना पड़ा। जिसके बाद तृप्ति ‘क्रांतीवीर झोपड़ी विकास संघ’ संस्था की अध्यक्ष बनीं और स्लम इलाकों पर काम करने लगीं।

चुनाव में भी लिया हिस्सा

बता दें कि, तृप्ति के भूमाता ब्रिगेड संस्था का मुख्यालय मुंबई में है। हालांकि, इसकी तीन शाखाएं अहमदनगर, नासिक और शोलापुर में भी हैं। इस संस्था से 5000 से ज्यादा महिलाएं जुड़ी हुई हैं। इसके अलावा बात करें तो साल 2007 में वो उस वक्त चर्चा में आईं, जब उन्होंने अजीत को-ऑपरेटिव बैंक के चेयरमैन अजीत पवार पर 50 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप लगाया था।

इतना ही नहीं, साल 2011 में उन्होंने अन्ना हजारे के IAC (इंडिया अगेंस्ट करप्शन) अभियान में भी हिस्सा लिया था। इसके बाद उन्होंने 2012 के सिविक इलेक्शन में बालाजी नगर वार्ड से बतौर कांग्रेस प्रत्याशी चुनाव भी लड़ी थी।

एयरटेल के फ्रेनचाइजी औल लैंड डीलर हैं तृप्ति के पति

Sabrimala temple Trupti desai special

तृप्ति के पति प्रशांत एयरटेल के फ्रेनचाइजी औल लैंड डीलर हैं। वह और उनका पूरा परिवार गगनगिरी महाराज का शिष्य है। पति प्रशांत की माने तो तृप्ति सामाजिक कार्यकर्ता होने के साथ-साथ बेहद आध्यात्मिक भी हैं। तृप्ति और प्रशांत का एक बेटा भी है, जिसका नाम योगीराज देसाई है।

‘बिग बॉस’ से भी ले चुकी है पंगा

जानकारी के मुताबिक, तृप्ति देसाई को सितंबर 2016 में जाने-माने रिटलिटी टीवी शो ‘बिग बॉस’ का भी ऑफर मिला था। लेकिन तृप्ति ने बिग बॉस के घर में रहने के लिए एक शर्त रखी थी। उनकी मांग थी कि, बिग बॉस के तौर पर घर में किसी पुरुष की नहीं, बल्कि महिला की आवाज का सुनाई जाए। हालांकि, तृप्ति की इस शर्त के आगे बिग बॉस भी हार गए, लिहाजा तृप्ति शो का हिस्सा बनने से बना कर दिया।

आपको ये भी रोचक लगेगा

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें Facebook PageYouTube और Instagram पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.