खुले सबरीमाला के कपाट,नहीं मिला तृप्ति देसाई को प्रवेश..भारी विरोध के बाद पड़ा लौटना

Sabarimala temple Trupti desai

कोच्चि: शुक्रवार शाम 5 बजे केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट दर्शन के लिए खोल दिए गए हैं। अगले 62 दिनों तक मंदिर के द्वार उनके भक्तों के लिए खुले रहेंगे। हालांकि, मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर अब भी बड़ी समस्या देखी जा रही है।

Sabarimala temple Trupti desai

कृपया महिलाएं ना आएं सबरीमला मंदिर, कोर्ट के फैसले से कई गुना बड़ा है सदियों पुराना रिवाज

प्रदर्शनकारियों का भारी विरोध

बता दें कि, कोर्ट के आदेश के बाद भी हिंदूवादी प्रदर्शनकारियों का भारी विरोध देखा जा रहा है। उऩकी मांग है कि, पहले ही तरह मंदिर के नियम कानून बने रहने चाहिए। वहीं, इन्ही सब के बीच केरल के चर्चित सबरीमाला मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचीं सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई और छह अन्य महिलाओं ने हवाईअड्डे पर से पुणे लौटने का फैसला किया है।

कन्नड़ एक्टर की पत्नी ने की थी गलती, तभी से मंदिर में बैन हुआ महिलाओं का प्रवेश

Sabarimala temple Trupti desai

जाना पड़ा वापस

तृप्ति और उनके साथ आए लोग शुक्रवार तड़के लगभग 4 बजकर 45 मिनट पर यहां पहुंचा थे। लेकिन उनके आने के बाद बीजेपी और संघ परिवार के कार्यकर्ता हवाईअड्डे के बाहर प्रदर्शन करने लगे, जिसकी वजह से उन्हें और उनके साथियों को हवाईअड्डे से ही वापस लौट जाना पड़ा।

Sabarimala temple Trupti desai

हजारों में थे प्रदर्शनकारी

बता दें कि जब तृप्ति यहां पहुंचीं, तब यहां केवल 100 प्रदर्शनकारी थे लेकिन बाद में यह संख्या बढ़कर हजारों में पहुंच गई। प्रदर्शनकारियों ने हवाईअड्डे के अंदर और बाहर आने-जाने के सभी रास्तों को बंद कर दिया गया था। इस दौरान वहां पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता भी हवाईअड्डे पर आए थे हालांकि, बढ़ते विरोध को देखते पुलिस ने उन्‍हें वहां से जाने के लिए कहा।

मराठा आरक्षणः CM बोलें- 1 दिसंबर को मिलेगी अच्छी खबर, शुरू करो जश्न की तैयारी

वहीं, बीजेपी की प्रवक्ता शोभा सुरेंद्रन भी प्रदर्शनकारियों के पक्ष में दिखी। उनका कहना है कि, तृप्ति देसाई को हमारे मुख्यमंत्री के जैसे नास्तिकों का समर्थन मिल रहा है।
हमारी छाती पर कदम रखकर होकर गुजरना

कोच्चि एयरपोर्ट के बाहर प्रदर्शन में ऐक्टिविस्ट राहुल ईस्वर ने कहा कि, ‘तृप्ति देसाई को वापस लौट जाना चाहिए। अगव वो सबरीमाला मंदिर जाना चाहती हैं तो मंदिर में प्रवेश करने से पहले उन्हें उनकी छाती पर कदम रखकर गुजरना होगा।’

बता दें कि, विरोध देखते हुए तृप्ति देसाई ने राज्य पुलिस से सुरक्षा भी मांगी थी, जिसके लिए केरल पुलिस ने साफ इनकार कर दिया।

आपको ये भी रोचक लगेगा

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें Facebook PageYouTube और Instagram पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.