भविष्य की दिशा देने वाले शिक्षक जिम्मेदार ही बन बैठे गैर जिम्मेदार

गोवर्धन कुम्भकर आगर


कानड़ :- विदाई समारोह में उड़ाया सोशल डेस्टिंग का मज़ाक कार्यक्रम में एक दूसरे के करीब बैठे रहे शिक्षक।
केविड-19 खत्म नही हुआ सुरक्षा जरूरी। देश मे महामारी केविड-19 का तीसरा चरण चल रहा प्रशासन हर कदम सतर्कता के साथ लोगो को सतर्क करने में लगा हुआ हैं। प्रशासन अब कोरोना अभियान चलाकर घर घर जाकर इस महामारी से निपटने के लिए लगा हुआ। लेकिन इस महामारी में जिम्मेदार ही गैर जिम्मेदार बन बैठे तो केविड-19 से कैसे निपटा जा सकेगा ?
मंगलवार को रायपुरिया रोड पर शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय परिसर में शिक्षको का विदाई समारोह आयोजित किया गया। समाज को दिशा देने वाले शिक्षको ने सोशल डेस्टिंग का जमकर मज़ाक उड़ाया, इस कार्यक्रम में शिक्षकों के साथ शिक्षा विभाग के जिले के जिम्मेदार अधिकारी भी उपस्थित थे।
चेहरे पर मास्क नही सोशल डेस्टिंग भी नही – जिम्मेदार शिक्षको के द्वारा विदाई समारोह कार्यक्रम में अधिक संख्या में उपस्थित होने के साथ चेहरे पर मास्क के साथ सोशल डेस्टिंग का पालन उपस्थित शिक्षको के साथ मंच पर बैठे जिम्मेदार अधिकारियों ने भी नही किया था। जो गैर जिम्मेदार रवैया हैं।
हर समय चर्चा में रहता हैं संकुल — रायपुरिया रोड स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के साथ संकुल भी आए दिन चर्चा में बना रहता हैं। लॉक डाउन के दौरान विदाई समारोह कार्यक्रम आयोजित कर विद्यालय नगर में चर्चा का विषय बन गया। कई लोगो के द्वारा बताया कि जिम्मेदार शिक्षको के द्वारा गैर जिम्मेदार रवैया अपनाया गया वह गलत हैं। शिक्षको की एक गलती कई लोगो पर भारी पड़ सकती हैं।