मुंबई प्लेन क्रैश: मजदूर बोलें, भाग्यशाली हैं हम..लंच ब्रेक ने बचा ली हमारी जान

New Delhi: गुरुवार को मुंबई के घाटकोपर इलाके में एक निर्माणाधीन इमारत में प्लेन क्रैश की दुर्घटना हुई। इस हादसे में 5 लोगों की मौत हुई। लेकिन गनीमत रही कि, हजारों लोगों की जानें बच गई। जिस समय ये हादसा हुआ उस वक्त घटना स्थल पर काम करने वाले करीब 40 मजदूर लंच करने के लिए वहां से बाहर निकले हुए थे। जिसकी वजह से उनकी जानें बच गई।

 

28 जून को मुंबई में ये घटना दोपहर 1 बजकर 11 मिनट पर हुई थी। इस दौरान 22 साल पुराना किंग एयर सी 90 विमान दुर्घटनाग्रस्त होकर भीड़भाड़ वाले इलाके में निर्माणधीन इमारत पर गिर गया, जिसमें प्लेन में सवार सभी चारों लोगों के साथ एक अन्य की भी मौत हुई थी। जो उस वक्त वहां से गुजर रहा था।

 

कहा ये भी जा रहा है कि, ये प्लेन हादसा यहां के किसी भीड़-भाड़ वाले जगह पर भी हो सकती थी, लेकिन पायलटों की सूझबूझ और बहुदरी की वजह से एक बड़े हादसे को होने से रोका गया। कहा जा रहा है कि प्लेन क्रैश की संभावनाओं को देखते हुए पायलट ने प्लेन को भीड़-भाड़ वाली जगह की तरफ से मोड़ कर निर्माणधीन मकान की तरफ उड़ान भरी ताकि, अगर कोई हादसा हो तो उसमें ज्यादा जान-माल का नुकसान न हो।

 

घटना में तीन श्रमिक मामूली रूप से घायल हुए थे, उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहां पर काम करने वाले एक मजदूर ने बताया कि, उन्होंने तेजी से उड़ते हुए एक प्लेन को आते देखा जिसके बाद वो मकान से टकराते ही आग का गोला बन गया।

 

उसने बताया कि, उस वक्त बारिस हो रही थी और लंच करने के लिए वो पास की दूसरी बिल्डिंग में आ गए थे। जहां पर हमेशा लंच करते है।

 

बता दें कि, क्रैश हुआ प्लेन पहले उत्तर प्रदेश सरकार का था जिसे साल 2015 में मुंबई की यू वाई एविएशन नामक एक निजी कंपनी को बेच दिया गया था।