कठुआ गैंगरेप कांड: कहां गई हाईकोर्ट के वकीलों की इंसानियत? पीड़िता का केस लड़ रही वकील को दे रहें धमकियां

जम्मू कश्मीरः जम्मू के कठुआ जिले में एक आठ साल की बच्ची का अपहरण और बाद में हत्या का मामला अब गर्माता जा रहा है। पीड़िता की वकील को भी अभी कई धमकियां मिल रही है। इस मामले में अब बार एसोसिएशन आरोपियों के पक्ष में खुलकर आ गया है।

 

 

पीड़ित परिवार की वकील दीपिका सिंह राजावत को स्थानीय वकीलों और जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट में बार एसोसिएशन अध्यक्ष बीएस सलाठिया पर केस ना लड़ने के लिए धमकी दी है। दीपिका ने आरोप लगाया कि एसोशिएशन के वकीलों ने उनके अटेंडेंट्स से कहा है कि वे उन्हें एक गिलास पानी भी न दें।

 

 

इसके बावजूद भी दीपिका का कहना है कि, वो इसके लिए लड़ेंगी। पीछे नहीं हटेंगी। उन्होंने आशंका जताई कि इस मामले में गवाहों को नुकसान पहुंचाया जा सकता है। ये पूरा 12 जनवरी को सामने आया, जब लड़की के पिता मोहम्मद यूसुफ ने हीरानगर थाने में केस दर्ज कराया। 10 जनवरी को उनकी बेटी जंगल में घोड़े के लिए चारा लेने गई थी, जिसके बाद वो लौटी ही नहीं।

 

 

बता दें कि, ये मामला जनवरी का है जो अब खुलकर सामने आ रहा है। गौरतलब है कि कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ एक मंदिर परिसर में सात लोगों ने चार दिन तक रेप किया था। जिसमें पुलिसवाले भी शामिल थे। ये वही पुलिसवाले थे बच्ची को ढूंढने का केस दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.