*प्रसूता की मौत के बाद छह माह से न्याय के लिए भटक रहा पति*

*प्रसूता की मौत के बाद छह माह से न्याय के लिए भटक रहा पति*
*मामला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मो बड़ोदिया का*
कानड़। स्वास्थ्य केंद्र् मोहन बड़ोदिया का मामला विगत दिनों पहले रिश्वत लेने के दो वीडियो वायरल में बैठे लेकिन 6 वर्ष पुराना मामला भी इसी अस्पताल का है जो मोहन बड़ोदिया स्वास्थ केंद्र में प्रसूता के दौरान एएनएम की लापरवाही से स्वास्थ्य केंद्र् में ही पदस्थ एएनएम सुनीता भिलाला की मौत हो गई थी इसके लिए जिम्मेदार एएनएम को सजा दिलाने के लिए पीड़ित पति छह माह स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग के चक्कर काट रहा है लेकिन उसे कार्रवाई के नाम पर सिर्फ उसे आश्वासन ही मिल रहे हैं मामला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मो बड़ोदिया का है जानकारी के अनुसार 27 जनवरी 2019 को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र्र पर सुनीता पति सुनील भिलाला निवासी कानड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र्र मोहन बड़ोदिया में प्रसव के लिए भर्ती हुई थी। स्वास्थ्य केंद्र्र पर पदस्थ एएनएम रेणुका भारती, रिंकू भालोट ने सुनीता भिलाला का प्राथमिक उपचार किया। देर रात सुनीता भिलाला ने बच्ची को जन्म दिया लेकिन प्रसव के दौरान सुनीता की तबीयत खराब होना शुरू हो गई थी। ऐसे में अलसुबह सुनीता को स्वास्थ केंद्र्र से शाजापुर जिला चिकित्सालय रेफर किया गया लेकिन रास्ते में उसने दम तोड़ दिया।
*कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति*

सुनीता के पति सुनील भिलाला ने बताया कि एएनएम रेणुका भारती, रिंकु भालोट की लापरवाही से मेरी पत्नी की मौत हुई। इसकी शिकायत विभाग में की गई तो जिम्मेदारों ने जांच टीम बनाकर दोनों एएनएम को दोषी करार देकर उनका वहां से तबादला कर दिया। विभाग द्वारा महज खानापूर्ति कर दोषियों को बचाया जा रहा है।
*जांच टीम ने दिया दोषी करार*
सुनीता भिलाला की मौत के बाद विभाग ने जांच टीम का गठन किया। इसमें डॉ. प्रकाश पंडित डीएचओ, डॉ. एआर हावड़िया डीएचओ, डॉ. उषा परमार स्त्री रोग विशेषज्ञ, डॉ. सीमा चौधरी स्त्री रोग विशेषज्ञ ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि समय रहते हुए भी जिला चिकित्सालय रेफर नहीं कर प्रसव वहीं कराया गया। प्रसव के दौरान उसे चीरा भी नहीं लगाया और कर्तव्यों के निर्वहन में लापरवाही और उदासीनता बरती। जांच टीम की रिपोर्ट के बाद भी विभाग ने दोनों एएनएम पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं करते हुए रेणुका भारती को खड़ी पोलायकलां और रिंकु भालोट को पगरावदकलां पोलायकलां के स्वास्थ्य केंद्र्र में पदस्थ कर दिया।

*कई बार शिकायत की*

मृतका के पति सुनील भिलाला ने बताया कि कार्रवाई के लिए विभाग के साथ पुलिस थाने के कई चक्कर लगा चुका हूं। अब तक पुलिस थाना मोहन बड़ोदिया में दो बार और शाजापुर एसपी को दो बार शिकायत कर चुका हूं। एसडीओपी शाजापुर को एक बार शिकायती आवेदन दे चुका हूं। ऐसे में कई बार पुलिस विभाग को जांच रिपोर्ट के साथ शिकायत की लेकिन जिम्मेदारों ने अनदेखा किया। सुनीता ने जिस बच्ची को जन्म दिया था, वह अब छह माह की हो गई है। सुनिल भिलाला ने बताया कि लिखित शिकायत और दस्तावेज देने के बाद भी कोई जांच कर कार्रवाई नहीं होना समझ से परे है।

*शाजापुर एसपी अलोक* श्रीवास्तव ने बताया कि मामले को दिखवाता हूं। दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। जिला स्वास्थ्य अधिकारी जीएल सोढ़ी ने बताया कि हमारे द्वारा विभागीय कार्रवाई कर उक्त एएनएम की दो वार्षिक वेतनवृद्घियां रोकने के साथ उनका स्थानंतरण कर दिया गया है। अब पीड़ित कार्रवाई के लिए कोर्ट जा सकते हैं। एसडीओपी शाजापुर एसके उपाध्याय ने बताया कि उक्त मामले की जानकारी मंगवाई है। हमारे पास जानकारी आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। मोहन बड़ोदिया टीआई अवशेष कुमार सेसा ने बताया कि पीड़ित को शाजापुर एसडीओ ऑफिस जाने का बोला है। वहां पीड़ित के बयान दर्ज होंगे।
थिंक मीडिया ब्यूरो रिपोर्ट
कानड़ गोवर्धन कुम्भकार की रिपोर्ट*

Leave a Reply

Your email address will not be published.