CBSE पेपर लीक: ‘भाभी के लालच में मैंने लीक किया 10वीं का पेपर’- मुख्य आरोपी

नई दिल्लीः सीबीएसई के दसवीं कक्षा के गणित के पेपर लीक होने की गुत्थी एसआईटी ने सुलझा लिया है। मिले जानकारी और सबूतों के मुताबिक, पूर्व में गिरफ्तार डीएवी स्कूल, ऊना के शिक्षक राकेश ने ही गणित का पेपर भी लीक करवाया था। राकेश को पिछले सप्ताह ऊना, हिमाचल प्रदेश से गिरफ्तार किए गया था।

 

जांच में सामने आया है कि, डीएवी सेंटेनरी पब्लिक स्कूल के आरोपित शिक्षक राकेश कुमार ने डीएवी स्कूल में प्रधानाचार्य बनने के लालच में ऐसा कारनामा किया था। इस मामने में राकेश समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया है।

 

गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से एक बैंक प्रबंधक, एक सीनियर कैशियर और एक महिला शामिल हैं। महिला का बेटा इस साल दसवीं के परीक्षा में शामिल हुआ था।

 

आरोपी बैंक प्रबंधक की पहचान 35 साल के शेरू राम के तौर पर हुई है जो यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, ऊना शहर में शाखा प्रबंधक के तौर पर कार्यरत हैं। इसी शाखा के सीनियर कैशियर ओम प्रकाश (58) और एक महिला भी इसी गिरोह में शामिल थी। महिला राकेश कुमार की रिश्तेदार है। जिसका नाम अंजू बाला है।

 

आरोप है कि इसी महिला ने हस्तलिखित 12वीं के अर्थशास्त्र और दसवीं के गणित के पेपर को व्हाट्सऐप के जरिए अपने जानकारों को भेजा था।

 

राकेस ने पूछताछ में बताया कि, अंजू भाभी के कांग्रेस पार्टी के कई बड़े नेताओं से मधुर संबंध हैं। उसके कई परिचित दिल्ली में दसवीं व बारहवीं की परीक्षा दे रहे हैं। अगर वह प्रश्नपत्र लीक करके दे देगा तो बदले में उसे फायदा ही होगा।

 

वहीं, अंजू बाला फिरोजपुर, पंजाब में परिवार के साथ रहती है। वह वहीं पर एक इंस्टीट्यूट में असिस्टेंट लाइब्रेरियन है। उसका बेटा चंडीगढ़ से बीटेक द्वितीय वर्ष का छात्र है।

 

परीक्षा के पांच दिन पहले हो गया था गणित का पेपर लीक

राकेश ने बताया है कि गणित का पेपर होने से पांच दिन पूर्व 23 मार्च को उसने पेपर बैंक के स्ट्रांग रूम से निकाल लिया था। पेपर को उसने अपनी कार में रख दिया। पेपर की सील खोलकर मोबाइल से फोटो खींचे। इसके बाद एक छात्र (जिसे वह ट्यूशन पढ़ता था) को घर बुलाकर पेपर को कॉपी कराया। छात्र की हेंड राइटिंग में लिखवाकर उसे व्हाट्सऐप पर सर्कुलेट कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.