छपरा रेल फैक्ट्री बनकर हुई तैयार, हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार

Chhapra trail factory indian railway

बिहार में छपरा रेल फैक्ट्री बनकर तैयार हो गई है। जहां अब एक साल में बनेंगे भारतीय रेल के 10 डीजल इंजन का निर्माण किया जाएगा। पूर्वोत्तर रेलवे के रेल महाप्रबंधक राजीव अग्रवाल और डीआरएम एसके झा ने मढ़ौरा रेल इंजन कारखाना निर्माण का जायजा लिया। और निरीक्षण के क्रम में उन्होंने पाया कि निर्माण कार्य 90 फीसदी तक पूरा कर लिया गया है।

अधिकारियों ने वैसे मीडिया को कुछ भी बताने से इंकार कर दिया।पर सूत्रों के हवाले से खबर है कि जनवरी 2019 से ही इस कारखाने में डीजल इंजन का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा। ये कारखाना अमेरिका की कंपनी जीई इलेक्ट्रिकल के नाम से है और इस कंपनी ने हर साल 100 इंजन निर्माण का लक्ष्य निर्धारित किया है। यहां जो भी इंजन तैयार होंगे वह देश के कोने-कोने में जाएंगे।

रेल महाप्रबंधक और डीआरएम ने इंजन तैयार होने के बाद उसे विभिन्न जगहों पर भेजने के लिए कारखाने से मढ़ौरा स्टेशन तक ट्रांसपोर्टेशन व्यवस्था की भी जानकारी ली है। इस क्रम में डीआरएम को आदेश दिया गया कि कारखाना से लेकर स्टेशन तक रेल लाइन अविलंब बिछाई जाए और साथ ही अन्य जरूरी व्यवस्था भी पूरी  कर ली जाए।

अधिकारियों के अनुसार यह योजना लगभग 400 करोड़ की है और इसमें 30 फीसदी राशि रेलवे खर्च कर रही है और 70 फीसदी कंपनी खर्च कर रही है। इस योजना के पूरे हो जाने से बिहार के सारण का नाम विश्व पटल पर आ जाएगा क्यों कि रेल इंजन निर्माण के कुछ गिने चुने ही स्थल हैं। इतना ही नहीं  यहां के स्थानीय  लगभग दस हजार लोगों को रोजगार भी मुहैया होगा। और साथ ही यहां का चंवर क्षेत्र का तेजी से विकास भी होगा।

Reported by: राजीव रंजन कुमार, (सीवान) बिहार, थिंक मीडिया ब्यूरो रिपोर्ट

 

ये भी पढ़ें

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें Facebook PageYouTube और Instagram पर फॉलो करें

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.