पॉक्‍सो एक्‍ट में बदलावः 12 साल से छोटे बच्‍चे से दुष्‍कर्म की सजा होगी फांसी

नई दिल्लीः अपने ब्रिटेन दौरे से वापस आते ही पीएम मोदी ने बड़ा फैसला लिया है। शनिवार को प्रधानमंत्री आवास पर केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में 12 साल तक की बच्ची से रेप के दोषियों को मौत की सजा देने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है। और जल्द ही सरकार अब सरकार इसके लिए अध्यादेश लाएगी।

 

हालांकि सरकार की ओर से अभी औपचारिक घोषणा नहीं की गई है। प्रस्ताव के अनुसार 12 साल तक बच्ची के साथ दुष्कर्म के दोषी को भी मौत की सजा सुनाई जाएगी। अभी तक पॉक्सो कानून के प्रावधानों के अनुसार इस जघन्य अपराध के लिए अधिकतम सजा उम्रकैद है। वहीं न्यूनतम सजा 7 साल की जेल है। 18 साल से कम उम्र के बच्चों से किसी भी तरह का यौन व्यवहार इस कानून के दायरे में आता है। इसके तहत अलग-अलग अपराध के लिए अलग-अलग सजा तय की गयी। यह कानून लड़के और लड़की को समान रूप से सुरक्षा प्रदान करता है।

 

वहीं, संशोधित कानून के तहत 16 और 12 साल से कम उम्र की बच्‍चियों के साथ दुष्‍कर्म मामले में दोषियों को मौत की सजा दी जाएगी।