दिल्ली के कपल को फर्जी IAS बना बिहार पुलिस ने भेजा जेल

Bihar police arrest delhi couple ias case

दिल्ली के एक दंपती को फर्जी आईएएस बताकर जेल भेजने के मामले में बिहार पटना पुलिस पर अब सवाल उठ रहे हैं। प्रभारी जोनल आईजी बच्चू सिंह मीणा ने पीड़ितों  परिवार की फरियाद सुनने के बाद इस मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश जारी कर दिये हैं।

डीआईजी और एसपी सिटी दोनों मिलकर इस मामले की जांच करेंगे। पुलिस सूत्रों की मानें तो आईजी द्वारा जारी पत्र में कई ऐसे पहलुओं का जिक्र किया है जिन पर पटना पुलिस ने जांच ही नहीं की और दंपती को दिल्ली से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस चिट्ठी इस ओर इशारा कर रही है कि पुलिस ने यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ललन कुमार के कोतवाली थाने में केस दर्ज कराने के बाद बिल्कुल एकतरफा कार्रवाई की है।

सिर्फ कोतवाली ही नहीं बल्कि पटना बुद्धा कॉलोनी के थाने में भी एक दर्ज केस में भी ऐसा ही हुआ है। पटना बुद्धा कॉलोनी में हुए केस के आईओ और तत्कालीन दारोगा मनीष कुमार ने बिना एसपी सिटी के आदेश के ही मिथिलेश सिंह और उनके पति निर्भय सिंह पर चार्जशीट दाखिल कर दी है। अगर इस मामले की सही तरीके से जांच हो तो कोतवाली थाने के तत्कालीन दारोगा और इस केस के आईओ विक्रमादित्य झा और बुद्धाकॉलोनी थाने के तत्कालीन दारोगा मनीष कुमार पर गाज गिरना बिल्कुल तय माना जा रहा है।

बहुत जल्द ही इस मामले की रिपोर्ट भी आ सकती है। अपनी बेटी और दामाद को झूठे मुकदमे में फंसाये जाने के बाद मिथिलेश के रिटायर फौजी पिता अप्रैल 2018 से ही बिहार पुलिस के बड़े अफसरों के पास चक्कर लगाते फिर रहे हैं। आला अफसरों ने अधीनस्त पुलिस अफसरों को जांच के लिए चिट्ठी भी लिखी थी लेकिन उसे भी दरकिनार कर दिया गया है। कोर्ट और कानून पर सभी को विश्वास होता है लेकिन अब पीड़ीत दंपति इंसाफ मांगे तो अब किस दरवाजे पर मांगे।

Reported by: राजीव रंजन कुमार, (सीवान) बिहार, थिंक मीडिया ब्यूरो रिपोर्ट

ये भी पढ़ें

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें Facebook PageYouTube और Instagram पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.