प्राथमिक शिक्षकों की तालाबंदी के साथ हड़ताल से बच्चों का भविष्य होगा चौपट, बोर्ड परीक्षा में भी कक्ष निरीक्षकों की होगी भारी कमी

अमेठी से अशोक श्रीवास्तव, भेटुआ से राज कुमार जायसवाल व संग्रामपुर से चंदन दुबे की रिपोर्ट

 

 

 

 

उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में शिक्षकों व अन्य कर्मचारियों ने पुरानी पेंशन बहाली आंदोलन के तत्वाधान में कलेक्ट्रेट परिसर में व सभी बीआरसी सेंटरों पर शिक्षकों ने धरना प्रदर्शन किया। शिक्षकों के धरने के कारण जिले के लगभग अधिकांश प्राथमिक विद्यालय बंद रहे। विद्यालय आये बच्चे विद्यालय में ताला बंद देखकर वापस घर लौट गए।

कर्मचारी शिक्षक अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच के अध्यक्ष डॉ दिनेश चंद्र शर्मा व संयोजक हरि किशोर तिवारी जी के आवाहन पर प्रदेश भर में आज से महा हड़ताल का ऐलान कर दिया गया है। इसमें सभी शिक्षकों एवं अधिकारियों से आह्वान किया गया है की सभी अपने कार्यालयों व विद्यालयों में पूर्ण तालाबंदी रखते हुए कार्य का बहिष्कार करें।
भेटुआ ब्लॉक के प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष राज बहादुर शर्मा ने बताया कि इस हड़ताल की अवधि में पूर्ण तालाबंदी के साथ ही बच्चों के लिये बनने वाला एमडीएम बन्द रहेगा व अधिकारियों का फोन भी रिसीव नहीं करना है। किसी के भी दबाव में कार्यालयों विद्यालयों को नहीं खोलना है। सरकार को हमारी आवाज सुनना ही पडे़गा। हम अपनी महा हड़ताल 12 फरवरी तक अनवरत  चालू रखेगे।
एबीएसए सिंहपुर ने बताया कि मेरे ब्लॉक के अधिकांश विद्यालय बन्द हैं। सभी की सूची मंगवाई जा रही है। एबीएसए भेटुआ ने परिसर में हो रहे धरना प्रदर्शन को ही सिरे से नकार दिया तो वही एबीएसए संग्रामपुर ने फोन ही नहीं उठाया।

बीएसए विनोद कुमार मिश्रा  ने बताया कि हड़ताली शक्षकों व कर्मचारियों के लिये एक एक सूचना रजिस्टर बीआरसी पर रखा गया है जिसमे वे हस्ताक्षर करेंगे। यदि बिना हस्ताक्षर के हड़ताल कर विद्यालय बन्द रखेंगे तो उन्हें नोटिस जारी किया जाएगा।

अमेठी से अशोक श्रीवास्तव की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.