औरैया से जारी हुआ आतंकी कसाब के नाम का मूल निवास प्रमाण पत्र, उड़े अधिकारियों के होश

ajmal kasab resident certificate uttar pradesh

औरैयाः आए दिन उत्तर प्रदेश में अजीबोगरीब कारनामें देखे जाते रहते हैं। लेकिन ताजा मामला जानकर आपके पैरों तले की जमीन ही खिसक सकती है। हैरानी की बात है कि, देश के सबसे बड़े गुनाहगार को प्रदेश का निवासी करार कर दिया गया है।

ajmal kasab resident certificate uttar pradesh

जारी हुआ आतंकी कसाब के नाम का प्रमाण पत्र

यूपी के औरैया जिले से मुंबई हमले के आतंकी अजमल कसाब का निवास प्रमाण-पत्र जारी किया गया है। जिसमें ये साफ प्रमाणित किया गया है कि, कसाब यूपी के औरैया जिले का रहने वाला है। इस प्रमाण पत्र के सामने आते ही हड़कंप मच गया। इस फर्जीवाड़े ने अधिकारियों के होश उड़ा दिए हैं। मामले के बाद इस बात का खुलासा हो गया कि यूपी के सरकारी दफ्तरों में चंद रुपये देकर कोई भी किसी का फर्जी प्रमाण पत्र बनवा सकता है।

अमृतसर: सत्‍संग में बाइक सवार लड़कों ने फेंका बम, 3 की मौत कई घायल

ajmal kasab resident certificate uttar pradesh

घेरे में आए अधिकारी

इस घटना से प्रदेश शासन की सक्रियता सवालों के घेरे में खड़ी हो गई है। बता दें कि, मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकी हमले में एकलौते आतंकी कसाब को जिंदा पकड़ा गया था। मामले के सामने आते ही जिला प्रशासन ने ये प्रमाण पत्र रद्द  कर दिए और लेखपाल को निलंबित कर दिया। ऑनलाइन आवेदक के खिलाफ भी जांच के आदेश दिए गए हैं। मामला बिधूना तहसील के अम्बेडकर नगर गांव का है।

ajmal kasab resident certificate uttar pradesh

21 अक्टूबर को बनवाया गया था प्रमाण पत्र

मिली जानकारी के मुताबिक, गत 21 अक्टूबर को किसी अज्ञात व्यक्ति ने कसाब का फोटो लगाकर आवेदन कर दिया, जिस पर लेखपाल की रिपोर्ट लगने के बाद एसडीएम ने निवास प्रमाण-पत्र जारी कर दिया। आवेदन में कसाब के पिता के स्थान पर मो. आमिर व मां के स्थान पर मुमताज बेगम लिखा हुआ है।

आवेदन में मां-पिता का भी नाम

26 नवंबर 2008 को मुंबई दहलाने वाले पाकिस्तानी आतंकी कसाब का जन्म स्थान बिधूना तहसील के अंबेडकरनगर गांव दर्शाया गया है। यह प्रमाण पत्र 21 अक्टूबर 2018 को जारी किया गया। आवेदन में कसाब के पिता का नाम मोहम्मद आमिर लिखा है। मां का नाम मुमताज बेगम लिखा हुआ है। जबकि कसाब की मां का नाम नूर इलाही है।

26 नवंबर, 2012 को दी गई थी फांसी

गौरतलब है कि, मुंबई में 26 नवंबर 2008 को होटल ताज पर हमला किया गया था। जिसमें सुरक्षाबलों ने कसाब को गिरफ्तार किया था। चार साल तक उसे यरवदा जेल में बंदी बना कर रखा गया था। जसके बाद से 26 नवंबर 2012 को फांसी दी गई थी। साथ ही भारत में ये पहला विदेशी था, जिसे फांसी पर चढ़ाया गया था।

आपको ये भी रोचक लगेगा

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें Facebook PageYouTube और Instagram पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.