अपर निदेशक, केन्द्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड(सीपीसीबी) ने सदस्य सचिव(युपीपीसीबी) से पाईप लाईन के माध्यम से शुध्द पेयजल आपुर्ति किये जाने के प्रकरण पर किया जवाब तलब,

* अपर निदेशक, केन्द्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड(सीपीसीबी) ने सदस्य सचिव(UPPCB) से पाईप लाईन के माध्यम से शुध्द पेयजल आपुर्ति किये जाने के प्रकरण पर किया जवाब तलब, मांगा 15 दिवस मे जवाब।


* वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जनपदः-सोनभद्र के क्रिटिकली प्रदुषण प्रभावित क्षेत्र के रुप मे चिन्हित ग्रामः-ककरी, गरबन्धा मे नही होती शुध्द पेयजल आपुर्ति व ग्राम-परासी मे पुरी आबादी के अनुपात मे नही हो रही शुध्द पेयजल आपुर्ति।

* सामाजिक कार्यकर्ता अंकुश दुबे ने ग्रामः-ककरी, परासी, गरबन्धा, बांसी, रेहटा मे वाटर ट्रिटमेन्ट प्लांट स्थापित कर शुध्द पेयजल आपुर्ति किये जाने हेतु पत्र भेजकर कराई थी शिकायत दर्ज।

:- जनपदः-सोनभद्र के क्रिटिकली प्रदुषण प्रभावित क्षेत्र के रुप मे चिन्हित ककरी, परासी, रेहटा, गरबन्धा, बांसी मे पाईप लाईन के माध्यम से शोधित पेयजल आपुर्ति के प्रकरण पर नीति आयोग के निर्देशन पर अपर निदेशक आर.के. चौधरी, केन्द्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड ने सदस्य सचिव, उत्तर प्रदेश प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड को पत्र भेजकर 15 दिवस मे जवाब मांगा है। सामाजिक कार्यकर्ता अंकुश दुबे द्वारा क्रिटिकली प्रदुषण प्रभावित क्षेत्र के रुप मे चिन्हित ग्रामः-ककरी व गरबन्धा को भ्रामक तरीके से पाईप लाईन से आच्छादित बताकर जिला प्रशासन द्वारा कोई आर.ओ संयत्र स्थापित नही किये जाने के कारण शोधित पेयजल न उपलब्ध न होने तथा ग्राम परासी मे पुरी आबादी के अनुपात मे शोधित पेयजल न उपलब्ध होने तथा ककरी, परासी, रेहटा, गरबन्धा, बांसी मे वाटर ट्रिटमेन्ट प्लांट स्थापित कर पाईप लाईन के माध्यम से शोधित पेयजल आपुर्ति किये जाने हेतु पत्र भेजा गया था जिसके क्रम मे यह कार्यवाही हुई है। सीपीसीबी द्वारा सदस्य सचिव, युपीपीसीबी से जवाब मांगे जाने पर अंकुश दुबे ने कहा है कि आशा है कि अब जिला प्रशासन व प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड इन गांवो मे शोधित पेयजल पाईप लाईन के माध्यम से आपुर्ति किये जाने की योजना बनाये जाने पर शिघ्रता-शिघ्र ठोस कार्यवाही करेगा।
अनूप कुमार साह
थिंक मीडिया ब्यूरो रिपोर्ट सोनभद्र मिर्जापुर उत्तर प्रदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published.