कब जानलेवा हो जाता है आपके घर में लगा AC?

गर्मी से राहत पाने के लिए आमतौर पर हर दूसरे घर में लोग एसी का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन अगर यही एसी पूरे परिवार के मौत का कारण बन जाएं तो इसके नाम से ही लोगों की रूह तक कांप सकती है। ये एक ऐसा ही मामला है।

AC dangerous health

1 अक्टूबर की रात पति, पत्नी और उनका एक आठ साल का बच्चा एसी ऑन कर सोते हैं। लेकिन सुबह तक पूरा परिवार हमेशा के लिए सो जाता है। ये मामला चेन्नई का है। जहां पर  इनकी मौत से हर कोई हैरान है।

चेन्नई में हमेशा के लिए सो गया एक परिवार

सुबह काफी देर तक जब घर में पहल नहीं हुई तो पुलिस को बुलाया गया। जिसके बाद पुलिस ने घर का दरवाज़ा तोड़ा और अंदर गए। घर के अंदर का नजारा देखकर वो हैरान रह गए। तीनों लोगों की लाश बेड पर ही पड़ी हुई थी। पुलिस को जांच में पता चला कि इन तीनों की मौत की वजह एयरकंडीशनर से लीक हुई ज़हरीली गैस ही है। पुलिस का कहना है कि, रात को ये परिवार बिजली जाने पर इनवर्टर ऑन करके सोया था। लेकिन रात में बिजली आ गई और एसी से लीक गैस से सभी की मौत हो गई।

AC dangerous health

पहले भी देखें गए हैं ऐसे मामले

बता दें कि, एसी की वजह से इस तरह की ये कोई पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी कई परिवारों की जानें जा चुकी है। इससे पहले एसी का कंप्रेशर फटने की वजह से लोगों की जान जा चुकी है। इतना ही नहीं, ये भी मामला देखा जा चुका है कि, जिन घरों और दफ्तरों में एसी का इस्तेमाल होता है कि, वहां लोगों को सिर दर्द, सांस लेने में दिक्कतें भी होती रहती हैं।

ये भी पढ़ेंः स्वस्थ और फिट बॉडी के लिए अपनी दिनचर्या में शामिल करें ये 5 जरूरी बातें

इस्तेमाल कब और कैसे करें

अब सवाल ये है कि, भला गर्मी से राहत दिलाने वाले एसी कैसे किसी की जान ले सकता है। और अगर ये इतना ही खतरनाक है तो इसके इस्तेमाल पर रोक क्यों नहीं लगाई जाती या फिर इसका इस्तेमाल कब और कैसे करें।

AC dangerous health

सबसे पहले तो एसी के इस्तेमाल से जितना दूर रह सकते हैं दूर रहें। ये न तो सेहत के लिए अच्छा है और न ही पर्यावरण के लिए। इसके साथ ही घर या दफ़्तर में एसी लगा हो तो किन बातों का ज़रूर ख़्याल रखा जाना चाहिए, इसके बारे में भी जान लें।

एसी में इस्तेमाल होने वाली गैसें

-आजकल की मॉर्डन एसी हैं उसमें पहले के मुकाबले कम ज़हरीली गैस इस्तेमाल किया जाता है। जिन्हें R-290 गैस कहा जाता है। साथ ही इसके अलावा और भी दूसरी गैसों का भी इस्तेमाल किया जाता है।

-पहले क्लोरो फ्लोरोकार्बन का इस्तेमाल किया जाता था। ये वही गैस है जिसे ओज़ोन लेयर में सुराख़ के लिए ज़िम्मेदार माना जाता रहा है।

-बीते क़रीब 15 सालों से इस गैस के इस्तेमाल को ख़त्म करने की बात की जा रही है।

-जिसके बाद हाइड्रो क्लोरो फ्लोरो कार्बन का इस्तेमाल किया गया। जिसे अब हटाया जा रहा।

ये भी पढ़ेंः अब मर्द भी ले सकेंगे गर्भनिरोधक गोली का सहारा, इस तरह करती है काम

घर में इस गैस वाली ही एसी का करें इस्तेमाल

-अभी भारत में जिस गैस का ज़्यादातर इस्तेमाल हो रहा है, वो हाइड्रो फ्लोरो कार्बन है।

-कुछ कंपनियों ने प्योर हाइड्रो कार्बन के साथ एसी बनाना शुरू कर दिया है।

-जिस पर पूरी दुनिया भी ज़ोर दे रही है।

-इसके अलावा कोशिश ये भी की जा रही है कि नैचुरल गैसों का इस्तेमाल किया जाए।

-वहीं, क्लोरो फ्लोरो सीधे हमारे शरीर पर कोई असर नहीं करता, लेकिन अगर ये गैस लीक हो जाए तो खतरनाक साबित होती है।

एसी से निकलने वाली गैस की वजह से होने वाली दिक्कतें

-गैस की वजह से सिर दर्द की शिकायतें होती हैं, लेकिन मौत कम ही मामलों में देखी गई है।

-एलर्जी होना।

-बुजुर्गों और बच्चों की इम्युनिटी सिस्टम कमज़ोर होना।

एसी लीक हो तो ऐसे करें पता

-ये बहुत ही मुश्किल काम होता है क्योंकि, एसी की गैस की कोई गंध नहीं होती। लेकिन कुछ वजहें होती है, जिससे इसका पता लगाया जा सकता है।

-एसी सही से फ़िट न हो।

-जिन पाइपों में गैस दौड़ती है, वो सही से काम न कर रही हों।

-पुराने एसी की ट्यूब में अगर ज़ंग लगी हो।

-अगर एसी अच्छे से ठंडा नहीं कर रही हो।

घर में AC है तो इन बातों का रखें ख़्याल

-समय-समय पर सर्विस करवाएं।

-दिन में एक बार कमरे की खिड़कियां-दरवाज़े खोलें।

-सर्विस किसी भरोसेमंद, सर्टिफ़ाइड मैकेनिक से ही करवाएं।

-स्प्लिट एसी विंडो एसी के मुक़ाबले ज़्यादा बेहतर होती है।

-गैस की क्वालिटी का ध्यान रखें।

-जब भी कमरे की खिड़कियां या दरवाज़ें खोलें तो एसी बंद कर दें।

कितने घंटे तक चलाएं एसी

-अगर घर काफी खुला हुआ है तो एक बार एसी चालू करके ठंडा होने पर उसे बंद कर दें।

कितना होना चाहिए एसी का तापमान?

-एसी का तापमान 25-26 डिग्री सेल्सियस ही रखें।

-हालांकि, दिन के मुकाबले रात में तापमान कम रख सकते हैं।

इन देशों ने सेट किया हुआ है एसी का तापमान

-चीन: 26

-जापान: 28

-हांगकांग: 25.5

-ब्रिटेन: 24

Watch: भारतीय नेवी के जज्बे को सलाम,9 महीने की प्रेग्नेंट महिला के लिए बनें भगवान

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें Facebook PageYouTube और Instagram पर फॉलो करें

Tagged

Leave a Reply

Your email address will not be published.