‘गेट आउट ऑफ माई कंट्री’ चिल्लाते हुए भारतीय इंजीनियर पर बरसाई थी गोलियां, मिली सजा

वॉशिंगटनः न्याय सबसे लिए एक समान है, जिसका उदाहरण एक बार फिर देखने को मिला है। पिछले साल अमेरिका की कंसास सिटी में एक भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की हत्या कर दी गई थी। जिसके हत्यारे को खुद उसकी सरकार न ही सजा सुनाई है। और वो भी 14 महीनों के अंदर ही।

 

बता दें कि, हत्या की वजह जातीय नफरत बताई गई। जिसका अपराधी कोई और नहीं बल्कि अमेरिकन नेवी का सेवानिवृत्त अफसर था। जिसे अब उम्रकैद की सजा सुनाई गई है।

 

आरोपी अमेरिकी नौसेना में रह चुका है, जिसकी उम्र 52 साल है आरोपी का नाम एडम परिंटन है। प्यूरिंटन ने 22 फरवरी, 2017 को ‘गेट आउट ऑफ माई कंट्री’ चिल्लाते हुए 32 साल के कुचिभोटला को गोली मार दी थी।

 

परिंटन ने एक बार में दो भारतीयों पर गोली चला दी थी, जिसमें कुचिभोटला की मौत हो गई थी। जबकि आलोक मदासानी गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इन दोनों भारतीयों के बचाव में आगे आए एक अमेरिकी नागरिक को भी गोली लगी थी।

 

कुचिभोटला की पत्नी सुनैना दुमाला ने कंसास की संघीय अदालत के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा, ”मेरे पति की हत्या के मामले में सजा हुई है। वह लौट नहीं सकते। लेकिन इस फैसले से हेट क्राइम करने वालों को संदेश जरूर मिला है।

 

इस पूरे मामले में कंसास सिटी के एक फेडरल कोर्ट ने शुक्रवार को प्यूरिंटन को कुचिभोटला की हत्या के लिए उम्रकैद और दो अन्य लोगों की हत्या की कोशिश करने के प्रत्येक जुर्म के लिए 165 महीने की सजा सुनाई है।