पाकिस्तान के लिए नसीहत, ‘न बनें चीन का पिछलग्गू, खुद से बनाए अपनी पहचान’

पाकिस्तान के राजदूत रहे हुसैन हक्कानी ने पाकिस्तान को नसीहत दी है। उन्होंने कहा कि, इस्लामाबाद को चीन का पिछलग्गू बनने से बचने चाहिए। लड़ाकू देश बनने के बजाय पाकिस्तान को देश में कारोबार बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए।

 

बता दें कि, पिछले कुछ समय से पाकिस्तान और चीन के बीच दोस्ती बड़ी है। उनकी ये दोस्ती सैन्य के रूप में बढ़ रही है। जिससे सतर्क रहने की नसीहद देते हुए हक्कानी ने ये बाते कहीं है।

हक्कानी ने बताया कि पाकिस्तान को इस बारे में विचार करने की आवश्यकता है कि आतंकवाद के संदिग्ध हाफिज सईद का समर्थन करना या फिर अंतरराष्ट्रीय विश्वसनीयता और सम्मान हासिल करने में से क्या ज्यादा महत्वपूर्ण है।

 

हक्कानी साल 2008 से 2011 तक अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत रहे थे। पिछले सप्ताह उनकी नई किताब ‘ रीइमेजिनिंग पाकिस्तान : ट्रांसफार्मिंग ए डिस्फंक्शनल न्यूक्लियर स्टेट’ का विमोचन हुआ है जिसके लिए वो भारत आए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.