सरकारी अफसर समझ 7 भारतीय इंजीनियरों को किया अगवा, सुषमा ने की बात

अफगानिस्तान के बगलान प्रांत में सात भारतीय इंजीनियरों के अपहरण की पुष्टि की गई है। जिनकी रिहाई के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अफगानिस्तान के विदेशमंत्री सलाहुद्दीन रब्बानी से बात की है। बता दें कि, ये सभी इंजीनियर उत्तरी बाग़लान प्रांत में एक पावर प्लांट में काम कर रहे थे।

 

जानकारी के मुताबिक भारतीय कंपनी आरपीजी के सात कर्मचारियों को तालिबान ने बंधक बनाया है। आरपीजी ग्रुप के प्रमुख हर्ष गोयनका ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से की लोगों को छुड़ाने की अपील की है।

 

हालांकि अभी तक किसी संगठन ने इस अपहरण की जिम्मेदारी नहीं ली है। रिपोर्ट के अनुसार आतंकियों ने भारतीय इंजीनियरों को ले जा रही मिनी बस रुकवाई और अफगानी बस ड्राइवर के साथ उनका अपहरण किया। और उन्हें पुल-ए-खुमरी सिटी के डांड-ए-शहाबुद्दीन इलाके में ले गए।

 

वहीं, आतंकियों हकहना है कि, गलती से उन्हें सरकारी कर्मचारी समझकर अगवा किया गया है। बता दें कि, इस पावर प्लांट पर तालिबानी पहले भी कई बार निशाना भी बना चुके हैं।

 

गौरतलब है कि, इससे पहले साल 2014 में कैथोलिक प्रीस्ट फ़ादर ऐलेक्सिस प्रेम कुमार को हेरात से अगवा कर लिया गया था जिन्हें साल 2015 में छोड़ा गया।