सोमवती अमावस्या: संपूर्ण जीवन इस दिन के लिए तरसे थे पांडव

वैशाख का मास भगवान शिव और भगवान विष्णु का सबसे प्रिय माह होता है। वहीं इस माह में सोमवती अमावस्या का आना भी अत्यंत शुभकारी माना जाता है। लेकिन अगर यही अमावस्या सोमवार के दिन आए तो इसके योग और भी ज्यादा फलदायी हो जाते हैं।

कहा जाता है कि पांडव पूरे जीवन तरसते रहे परंतु उनके संपूर्ण जीवन में सोमवती अमावस्या कभी नहीं आई। बता दें कि, इस दिन को स्नान, दान के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

– सोमवती अमावस्या के दिन सूर्य नारायण को जल अर्पित करने से दरिद्रता दूर होती है।

– इस दिन नदी या सरोवर में स्नान कर भगवान शिव, माता पार्वती की पूजा करें।

– अमावस्या के दिन किसी भी वृक्ष से पत्ता न तोड़े।

– अमावस्या पर विवाहित स्त्रियां पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रख सकती है।

ऐसे करें पूजा-

– इस दिन मौन रहकर स्नान-ध्यान करें।

– गोदान करें।

– गरीबों को भोजन कराएं।

– जरूरतमंदों को वस्त्र भेंट करें।

– गृह क्लेश है तो इस दिन पीपल पर मीठे दूध का जल चढ़ाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.